केजरीवाल की माफी के बाद पंजाब में बगावत,भगवंत मान ने दिया इस्तीफा

Punjab

चंडीगढ़ः दिल्ली के मुख्यमंत्री तथा आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल द्वारा मानहानि मामले में अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांगने के बाद पार्टी में बगावत खड़ी हो गई है जिसके बाद पार्टी प्रधान भगवंत मान ने पार्टी पद से इस्तीफा दे दिया है। मान ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट डाल इसकी जानकारी दी। मान ने लिखा मैं आम आदमी पार्टी की प्रधानगी से इस्तीफा दे रहा हूं लेकिन पंजाब में ड्रग माफिया तथा लोगों के साथ हो रही धक्केशाही के खिलाफ मैं लड़ता रहूंगा। एक सच्चा पंजाबी होने के नाते यह जंग लगातार जारी रहेगी।

 

बता दे कि गत दिवस दिल्ली के मुख्यमंत्री ने एक मामले में अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया से लिखित में माफी मांगी जिसकी जानकारी मजीठिया ने प्रैस कांफ्रैंस दौरान दी। इस  मामले पर आम आदमी पार्टी की पंजाब यूनिट में खासी नाराजगी है। पंजाब आप के नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने कहा कि केजरीवाल ने पार्टी से चर्चा किए बगैर यह कदम उठाया है। वहीं, पार्टी के नाराज नेता कुमार विश्वास ने भी इसे लेकर अरविंद केजरीवाल पर तंज कसा है। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, ‘एकता बांटने में माहिर है, खुद की जड़ काटने में माहिर है, हम क्या उस शख़्स पर थूकें जो खुद, थूक कर चाटने में माहिर है।

अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी, जिसके नेताओं पर 20 से ज्‍यादा मानहानि के मामले दर्ज हैं, ने उन मामलों को निपटाने का फैसला किया है। केजरीवाल अपने ऊपर चल रहे सभी मानहानि के मामलों को खत्म करने के लिए सभी संबंधित नेताओं से बात करेंगे। अरुण जेटली, नितिन गडकरी समेत कई नेताओं ने केजरीवाल पर मानहानि के मुकदमे कर रखे हैं। दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक सीएम केजरीवाल को रोजाना अदालत में घंटों बर्बाद करने पड़ रहे हैं जिससे उनका कामकाज प्रभावित हो रहा है इसलिए अब सभी मुकदमे खत्म करने के लिए कोशिश करेंगे।

केजरीवाल ने अकाली दल के नेता मजीठिया को लिखे ‘माफीनामे’ में लिखा है, ‘अब मैं जान गया हूं कि सारे आरोप निराधार हैं, इसलिए मैं आपके खिलाफ लगाए गए सभी आरोप और बयान वापस लेता हूं और उनके लिए माफी भी मांगता हूं।पिछले 7 महीनों में मानहानी के मामलों में केजरीवाल द्वारा दूसरी बार माफी मांगी गई है और आम आदमी पार्टी के सूत्रों ने बताया कि पार्टी अब अपने नेताओं के खिलाफ दायर मानहानि के मामलों को इसी तरीके से सुलझाने की कोशिश करेगी।

पिछले साल अगस्‍त में केजरीवाल ने हरियाणा के बीजेपी नेता अवतार सिंह भड़ाना से मानहानि का मामला खत्‍म करने को लेकर माफी मांगी थी। उन्‍होंने 2014 में भड़ाना को भ्रष्‍ट कहा था। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री के खिलाफ वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अलग से मानहानि का दावा किया था क्‍योंकि केजरीवाल ने अरुण जेटली पर दिल्‍ली क्रिकेट एसोसिएशन के प्रमुख के रूप में उनके 13 साल के कार्यकाल के दौरान भ्रष्‍टाचार का आरोप लगाया था।

Leave a Reply