इंसान तो क्या इन शौचालय में कुत्ते भी शौच ना करे साहब        

Madhya Pradesh

खुजहरो (निर्णय तिवारी ) तहसील राजनगर में आपसी साठ गांठ से  ऐसे शौचालय बनाये जा रहे हे जिनमे तय मापदंडों का पालन नहीं हुआ फिर भी संबंधित अधिकारियो ने उपयुक्तता प्रमाण जारी कर दिये ,जिनके द्वारा यह प्रमाण पत्र जरी किये अगर उन्ही से कहा जाये की इनमे जाकर शौच कर के दिखावे तो वह भी शौचालय में सोच करने की अपेछा खुले में शौच पसंद करेग,े फिर जनता से यह अपेछा क्यों की वह ऐसे घटिया शौचालय में शौच को जाये ।सच तो यह हे की शौचालय निर्माण भ्रष्टाचार की बैशाखी से बन रहे हे ,कहने को राशी हितग्राही के खाते में जाती हे पर सच यह हे की रोजगार सहायक कियोस्क संचलक के सहयोग से राशि स्वयं निकाल रहे हे , अगर राशि हितग्राही को मिल रही होती तो इतने घटिया शौचालय निर्माण पर  उपयोगीता प्रमाण हितग्राही को नहीं दिया जाता।यह सब इसलिये हो रहा हे की शौचालय बनाने का काम यही लिए हे और हितग्राही से मजदूरी और ईट ही ली जाती हे। जिसका उन्हें भुगतान ही नहीं होता ,।उनसे कहा जाता हे की शौचालय तो दे रहे और पेसा उनके खाते से कियोस्क संचालको की मदद से निकल जाता हे ,इसलिए उनके भी जीरो बेलेंश खाते    खुलवाये जाते हे जिनके पहले ही बचत खाते हे क्योकि बैंक में यह खेल नहीं खेला जा सकता । इस तरह घटिया निर्मण में भी उपयुक्त प्रमाण पत्र जारी कर  शौचालय निर्माण में सरपंच सचिव रोजगार सहायक से लेकर पंचायत समन्वयक सहायक यंत्री उपयंत्री  क्योश्कर संचालक एस बी आई ,सभी भ्रष्टाचार करते हे ,इसी की सहायता से अनउपयुक्त शौचालय को उपयुक्त घोषित किया जाता हे ।बीजेपी सरकार की एक जनहितकारी योजना को उसी की सरकार के अधिकारी पलीता लगा रहे तेजतर्रार एस डी एम साहिबा से लेकर ईमानदारी की मिसाल तहसीलदार सब को पता हे क्योकि  ये सब मोनीेटिरिंग अधिकारी हे ।और सी ई ओ राजनगर को  इसकी  पूरी खबर हे या  फिर वही स्क्रिप्ट राईटर बने हुए हे ,ग्राम ढीमर पूरा अकोना में पचास से अधिक ऐसे ही घटिया शौचालय बने हे जिनकी प्रति शौचालय के 12000 बारह हज़ार रुपे के हिसाब से  600000 छै लाख रुपये आते  हे।। शौचालय की फोटोग्राफ ही यह साबित करने को काफी हे की शौचालय का निर्माण कितना घटिया हुवा हे और उसकी उपयोगीता  क्या हे । स्थानीय लोगो का कहना हे की ऐसे शौचालय में  अधिकारी साहब शौच कर के दिखाए हम भी जाने लगेंगे  ।  यह हल लगभग हर पंचयात का हे ।

Leave a Reply