बच्ची को स्कूल का काम न करने पर मिली सजा की आप का दिल भी कांप उठा (देखो विडिओ)

Haryana yamunanagar

यमुनानगर (लोकेश कुमार) यमुनानगर के जगाधरी स्थित अमर विहार कालोनी में एक निजी स्कूल में पांच साल की बच्ची को स्कूल का काम न करने की ऐसी सजा मिली की टीचर ने मासूम बच्ची की डंडे से पीटाई कर दी और डंडा बच्ची की आंख में जा लगा जिसके चलते मासूम गंभीर रूप से खून से लथपथ हो गई वही परिजन जब स्कूल पहंचे तो स्कूल की संचालक उन्हें समझाने की जगह उन्ही से उलझ बैठी फिल्हाल गंभीर हालत में बच्ची को निजी अस्तपाल में दिखाया गया यहा उसे पीजीआई चंडीगढ रेफर कर दिया

 यमुनानगर के जगाधरी की अमर विहार कालोनी स्थित शिव शक्ति  स्कूल की ऐसी गुंडा गर्दी एक तो चोरी उपर से सीना जोरी यही कर दिखाया यहा की स्कूल संचालिका ने दराअस्ल इस स्कूल में पढने वाली पांच साल की स्वीटी ने आज स्कूल में काम नही करा तो स्कूल में बच्चों को पढाने वाली एक टीचर ने मासूम को इस कदर पीटा की एक डंडा मासूम बच्ची की आंख में जा लगा जिसके चलते स्वीटी खून से लथपथ हो गई मासूम को खून सेलथपथ देख इस बच्ची का इलाज कराने की जगह स्कूल की संचालिका ने उसे घर भेज दिया जिसे देखते हर मासूम के परिजन उसे अस्पताल ले गए लेकिन सिविल अस्पताल में डाक्टर न होने पर जब बच्ची को लेकर उसके परिजन स्कूल में पहुंचे तो स्कूल की संचालिका परिजनो पर ही भडक उठी और उन्ही के साथ हाथों पाई करने लग गई यह मंजर जब मीडिया ने अपने कैमरे में कैद करना चाहा तो बौखलाहट के चलते स्कूल संचालिका कैमरों को ही तोडने पर उतारू हो गई लेकिन परिजनों का गुस्से को देख स्कूल संचालिका ने अपने आप को कमरे में बंद कर लिया लेकिन परिजनों ने उसे कमरे से बाहर निकाला तो संचालिका ने उनके साथ हाथों पाई करनी शुरू कर दी

स्कूल में दो घंटे तक जमकर हंगामा होता रहा लेकिन मासूम को देख कर भी स्कूल की संचालिका का दिल नही पसीचा लेकिन भीड को देखने के बाद कुछ लोगो ने पहले बच्ची के इलाज की बात कही वही जब एक निजी अस्पताल में बच्ची को दिखाया गया तो वहा भी डाक्टरों ने इस मासूम को पीजीआई चंडीगढ जाने की स्लाह दे दी हालाकि इस मामले की सूचना परिजनों ने पुलिस को भी दे दी है लेकिन मासूम के चंडीगढ ले जाने के बाद पुलिस अभी डाक्टर की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है जबकि मासूम बच्ची की आंख से खून बहने के बाद मासूम बेसुध हुई पडी है इन सब को देख स्वाल उठता है कि निजी स्कूलों की मनमानी के आगे आज भी शिक्षा विभाग चुप्पी साधे हुए है तभी तो ऐसा होने के बाद भी इन स्कूलों पर कार्रावाई नही होती इस पूरे मामले में पहले तो स्कूल संचालिका मीडिया से ही बदस्लूकी करती नजर आई लेकिन बाद में उन्होंन ेयह तो माना कि बच्ची की चोट लगी है लेकिन उन्होंने कहा कि मासूम को डंडा नही मारा बल्कि इसे बेंच से गिरने से ही इसे चोट लगी है

Leave a Reply