महंत संत किंकर दास की मौत के बाद आश्रम की जमीन को लेकर दो पक्ष आमने सामने

Haryana yamunanagar

यमुनानगर (लोकेश कुमार )यमुनानगर के हुडडा सैक्टर 17 स्थित मडी आश्रम के महंत संत किंकर दास की मौत के बाद आश्रम की जमीन को लेकर दो पक्ष आमने सामने आ गए है और ऐसे में जब जमीन को लेकर पहले ही मामला पुलिस के पास पहुंच गया था तो वही आज कुछ बाहरी महंतों ने आश्रम की जमीन पर हवन ज्ञग करना शुरू कर दिया जिस पर दो पक्षों की तिखी बहस तो हुई लेकिन बीच मे ंपुलिस के आने पर विवाद थम गया हालाकि इस जमीन पर 12 फरवरी को पुचायत भी होनी है

वीओ एक  यमुनानगर के हुडडा के सैक्टर 17 स्थित मडी आश्रम की करोडो रू की जमीन पर दो पक्ष आमने सामने आ गए है दराअस्ल इस जगह के महंत संत किंकर दास की मौत 28 जनवरी को हुई थी और महंत के शव को आश्रम में ही दफना दिया गया था महंत के शव को जमीन में दफनाने के बाद से ही जमीन को लेकर दो पक्ष आमने सामने आ गए है एक पक्ष तो इस जमीन को दान करने की बात पर यह कह रहे है कि गांव के लोगो की मर्जी से ही नया महंत रखा जाएगा जबकि एक पक्ष वह है जिसने बिहार से कुछ संतों को बुलाकर आश्रम में बिठा दिया है इस मामले को लेकर दो दिन पहले भी हंगामा हुआ था और मंदिर की कमेटी के बीच ही कुछ साघु संतों को मंदिर में बिठा दिया गया जबकि आज जब गांव के लोगो को इस बात का पता चला तो उन्होंने मौके पर पहुंचकर हवन कर रहे साधुओ को कुछ भी ऐसा न करने की हिदायत दे दी कि जो मंदिर की जमीन से जुडा हुआ है लेकिन इस बीच दूसरे पक्ष के लोग भी मौके पर पहुंचे और जमीन को लेकर दोनो पक्षों में जमकर बहस हुई आरोप है कि गांव के जमीनदारों ने यह जमीन मंदिर के नाम दान पर दी थी लेकिन अब इस जमीन पर बाहरी लोग अपना हक जिता रहा है जोकि गांव के लोग सहन नही करेंगे

वीओ दो  दो पक्षों में हो रही तिखी बहस की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और पुलिस ने साफ कर दिया कि किसी भी बाहरी व्यक्ति को मंदिर परिसर में कुछ भी नही करने दिया जाएगा और ऐसे में पुलिस ने यह भी कहा कि जमीन को लेकर इन लोगो को 12 फरवरी को बैठक होनी है और गांव के लोग ही इस जमीन पर महंत रखेंगे और ऐसे में अगर वाहरी लोग दखल अंदाजी करते है तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रावाई भी की जाएगी हालाकि मामला 12 फरवरी तक टल गया है लेकिन कुछ लोग इस जमीन को अपने कब्जे में लेेने के लिए ही बाहरी साधु संतों का सहारा ले रहे है फिल्हाल पुलिस ने भी आज के बाद 12 फरवरी तक आश्रम में हवन ज्ञग न करने की बात कही है जबकि मंदिर में पूजा करने के लिए कोई भी आ सकता है और ऐसे में आश्रम में कोई तनाव पैदा न हो इसके लिए वहा पुलिस की भी तैनाती कर दी गई है

Leave a Reply