मीठे गुड़ सी बोली, तिल सा तिलस्मी व्यक्तित्व, ख़्वाब हों उड़ती पतंग जैसे, एक कट जाए, तो दूसरा निकाल कर चिल्ला… काय पो छे!

Video


मीठे गुड़ सी बोली, तिल सा तिलस्मी व्यक्तित्व,
ख़्वाब हों उड़ती पतंग जैसे, एक कट जाए,
तो दूसरा निकाल कर चिल्ला… काय पो छे!

Leave a Reply