राहुल की सोच विकास में बाधा डालना : जेतली

Amritsar

collage_647_030216103834अमृतसर (गुरप्रीत सिंह / बिक्रमजीत ) : कांग्रेस पार्टी को कोसते हुए केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेतली ने विजय संकल्प यात्रा के समापन के दौरान कहा कि पंजाब में कांग्रेस पार्टी ने 2002 से 2007 के अपने कार्यकाल के दौरान बदले की राजनीति के सिवाय कुछ नहीं किया था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व उनके नेतृत्व वाली सरकार देश व जनहित के साथ-साथ कालाबाजारी, काले धन, भ्रष्टाचार व आतंकवाद को समाप्त करने के लिए नई योजनाएं सोचती है, लेकिन कांग्रेस पार्टी के युवराज राहुल गांधी यही सोचने में लगे रहते हैं कि भाजपा के विकास के मार्ग में बाधा डालने के लिए अगला हंगामा कब और कैसे खड़ा किया जाए, जबकि ऐसे मुद्दों पर विपक्षी नेताओं को पार्टी से ऊपर उठकर सरकार का साथ देना चाहिए। पंजाब में जब कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में वर्ष 2002 में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनी थी तो वर्ष 2007 तक अपने कार्यकाल में कैप्टन सरकार पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल व उसके परिवार की अरबों-करोड़ों रुपए की गैर-कानूनी संपत्ति होने के दावे कर रहे थे।

बादल परिवार की गैर-कानूनी संपत्ति तो वह ढूंढ नहीं पाए, हां इनके परिवार के विदेशों में जरूर बैंक खाते होने की बातें सामने आ रही हैं। उन्होंने कहा कि देश के कुल 100 शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने का फैसला किया गया तो पंजाब वासियों के लिए कितने गर्व की बात थी कि  स्मार्ट सिटी की सूची में सबसे पहला नाम गुरु नगरी अमृतसर का ही शामिल किया गया था जिसके तुरंत बाद गुरु नगरी में विकास कार्यों की मानो आंधी ही ला दी गई है। राज्यसभा सांसद श्वेत मलिक ने कहा कि पंजाब में दोबारा मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहे कैप्टन अमरेन्द्र सिंह पंजाब की जनता की आशाओं पर कतई खरे नहीं उतर सकते।

वर्ष 2014 में संसदीय चुनाव में चुनाव जीतने के पश्चात अपने हलके में लोगों के बीच ही नहीं, बल्कि संसद में भी उनकी उपस्थिति एक तरह से नगण्य ही रही है, जबकि उनकी तुलना में देश के वित्त मंत्री होते हुए भी अरुण जेतली गुरुनगरी में न सिर्फ कई चक्कर लगा चुके हैं, बल्कि 3 वर्ष के कार्यकाल में गुरु नगरी को कई सौगातें भी दे चुके  हैं। इस मौके पर पंजाब भाजपा के चुनाव प्रभारी नरेन्द्र सिंह तोमर, भाजपा प्रदेश प्रभारी प्रभात झा, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विजय सांपला तथा संगठन मंत्री दिनेश कुमार, स्थानीय निकाय मंत्री अनिल जोशी, मनजीत सिंह राय आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply