पॉर्न मूवी देख बच्ची से किया था रेप, पकड़े जाने के डर से कर दी हत्या

Uttar Pradesh
गाजियाबाद : खोड़ा थाना क्षेत्र की एक कॉलोनी में 2 अगस्त की रात को 5 साल की बच्ची से रेप करने के बाद हत्या करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बच्ची का हत्यारोपी कोई और नहीं बल्कि उसके मकान में बतौर किराएदार रहने वाला ओला और उबर कैब चालक ही निकला। पुलिस ने घटनाक्रम का जो खुलासा किया है वो इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला है। पुलिस का कहना है कि आरोपी ने घटना से पूर्व शराब पी और उसके बाद अपने कमरे में पोर्न मूवी देखी। जिसके बाद आरोपी के सिर हैवानियत सवार हो गई और उसने अपने ही कमरे में बच्ची से दुष्कर्म किया और फिर पकड़े जाने के डर से गला व मुंह दबाकर उसकी हत्या कर दी।

एक माह से पत्नी मायके में थी 
एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि पुलिस ने आगरा निवासी दीपक सिंह को खोड़ा थाना क्षेत्र से ही गिर तार किया है। वह दिल्ली की ओर भागने की फिराक में था। दीपक पीड़ित परिवार के घर में पिछले डेढ़ साल से बतौर किराएदार रह रहा था। वह मकान के फस्र्ट लोर पर रहता है। जबकि बच्ची का परिवार ग्राउंड लोर पर रहता है। दीपक ओला और उबर में कैब चालक है। उसकी पत्नी एक साल के बेटे को लेकर एक माह से अपने मायके में है। पूछताछ के दौरान उसने बताया कि 2 अगस्त की शाम को वह अपने कमरे में अकेला था। शाम करीब 6 बजे उसने शराब पीकर खाना खाया। जिसके बाद वह कमरे में ही लेटकर पोर्न मूवी देखने लगा। इसी दौरान रात करीब 8 बजे बच्ची खेलते हुए उसके कमरे में आ गई।

बच्ची से कर दिया दुष्कर्म 
बच्ची को देखकर उसपर हैवानियत सवार हो गई और उसने बच्ची से दुष्कर्म कर दिया। जिसके बाद पकड़े जाने के डर से उसने बच्ची की गला और मुंह दबाकर हत्या कर दी। एसएसपी ने बताया कि बच्ची की हत्या के बाद आरोपी ने रात में शव को बैग में रखा और फिर एक प्लास्टिक के कट्टे में रखकर उसे पड़ोसी की छत पर दीवार के सहारे एक कोने में रख आया। जब बच्ची की तलाश करते परिजन देर रात करीब 11 बजे जब उसके कमरे में पहुंचे तो वह भी बच्ची की तलाश को उनके साथ हो लिया। मामले को तूल पकड़ता देख आरोपी 3 अगस्त की सुबह एकाएक कमरे को खुला छोड़कर फारार हो गया।

3 अगस्त को दिल्ली पहुंचा था आरोपी
पुलिस का कहना है कि आरोपी दीपक 3 अगस्त को दिल्ली पहुंचा। जहां उसने ओला और उबर की कई सवारियों को भी कैब से छोड़ा। इस दौरान आरोपी एक परिजन से लगातार संपर्क में रहा और बच्ची के मिलने के बारे में पूछता रहा। लेकिन परिजनों को उस पर शक होने के बाद जब उसे बुलाया गया तो वह नहीं आया और वह दिल्ली से भागकर जहांगीरपुरी पहुंच गया, जहां वह जेसीबी मशीन चलाने लगा।

Leave a Reply