बेटे के हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही पुलिस

Chhatarpur Madhya Pradesh

mratak-ka-pita-or-sisterछतरपुर (निरणे तिवारी ) भूमि विवाद के चलते विगत 3 सितम्बर 2016 को मेरे बेटे मनीष तिवारी की भूमि विवाद के चलते सुनियोजित  साजिश के तहत कपड़े से गला घोंटकर  हत्या कर दी गई थी। मेरी 16 वर्षीय पुत्री ने आरोपियों को हत्या की वारदात को अंजाम देते हुए अपनी आंखों से देखा था। घटना की नामजद रिपोर्ट के बावजूद अतरार गांव में स्थित खेत पर मेरे बेटे की हत्या करने वाले मुन्ना रैकवार उर्फ मधुर कुमार  के पुत्र  गौतम रैकवार और तीन अन्य आरोपियों के खिलाफ आज तक कोई कार्रवाई नहीं की। यह आरोप सटई थाना इलाके के अतरार गांव निवासी शीलेंद्र तिवारी तनय मोहन लाल तिवारी ने एसपी ललित शाक्यवार को सौंपे आवेदन पत्र में लगाया है। आवेदक ने एसपी से अपने पुत्र की हत्या की वारदात की उच्च स्तरीय ईमानदार जांच तथा हत्यारोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है। शीलेंद्र के मुताबिक जब वह सटई थाने मे ंअपने पुत्र की हत्या की रिपोर्ट लिखाने गया तो पुलिस ने उसे ही झूठा ठहराकर भगा दिया और घटना की शिकायत दर्ज नहीं की। शीलेंद्र ने बताया कि उसने पूर्व में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से भी घटना की शिकायत कर उचित कार्रवाई की मांग की थी लेकिन आज तक पुलिस ने घटना के संबंध में किसी कोई पूछताछ नहीं की। शीलेंद्र के मुताबिक उसने मुख्य हत्यारोपी मधुर कुमार रैकवार से कृषि भूमि क्रय की थी। सुनियोजित साजिश के तहत मधुर कुमार रैकवार ने अपनी जमीन के अलावा वनविभाग की विवादित जमीन भी बेच दी थी जिसका प्रकरण अभी भी न्यायालय में विचाराधीन है। आवेदक शीलेंद्र तिवारी के मुताबिक हत्यारोपी उसे और उसके परिजनों का जान से मारने की धमकियां दे रहे हैं। उसने आरोपियों से अपने और अपनी परिवार की जान की आशंका भी जताई है। शीलेंद्र के मुताबिक उसके बेटे की हत्या मुन्ना रैकरवा उर्फ मधुर कुमार रैकवार, गौतम रैकवार उर्फ गोलू तथा तीन अन्य लोगों ने भूमि विवाद के चलते मिलकर की थी।

Leave a Reply