पैसे निकलवाने के लिए बैंक की लाइन में लगी महिला की हुई मौत

Ludhiana Punjab

लुधियाना (जसवीर जस्सी) नोटबंदी के बाद अपने ही जमा पैसे को निकलवाने के लिए बैंकों के बाहर लगी लाइनों में मरने वालों की संखया का आंकडा लगातार बढता जा रहा है। ताजा मामले में लुधियाना के पंजाब नेशनल बैंक की समराला चौक शाखा के बाहर अपनी बेटी की शादी के लिए पैसे निकलवाने के लिए लाइन में लगी टिब्बा रोड निवासी महिला आशा रानी (45) की बैंक खुलते ही हुई धक्का मुक्की में बेहोश होकर गिरने के बाद मौत हो गई। महिला की बेटी की शादी 28 फरवरी को नीयत है तथा उसकी मौत की सूचना मिलते ही लोगों में गुस्से की लहर दौड गई  तथा उन्होंने बैंक के बाहर शव रखकर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। उधर, लोगों का कहना है कि घटना के बाद बैंक मैनेजर मौके से भाग गया। उन्होंने सरकार से परिवार को मुआवजा देने के साथ इंसाफ की मांग की।

मृतका के बेटे परमिंदर सिंह ने कहा कि उनकी मां आशा रानी घर में बेटी की 28 फरवरी को शादी रखी होने के कारण पिछले चार दिन से रोजाना बैंक की लाइनों में खडी हो रही थी लेकिन उन्हें पैसे नहीं मिल रहे थे तथा बहुत परेशान थी। आज भी सुबह सात बजे बैंक की लाइन में लग गई लेकिन लोगों ने बताया कि जैसे ही बैंक खुला, वहां अफरातफरी मच गई तथा इसी दौरान हुई धक्का मुक्की में उनकी मां बेहोश होकर गिर गई तथा उनकी मौत हो गई। वही अन्य नजदीकियों ने आरोप लगाया कि बैंक के गार्ड का रवैया भी ठीक नहीं था तथा बैंक मैनेजर भी मौके से भाग गया।

मौके के प्रत्यक्षदर्शी सुरजीत कौर ने कहा कि बैंक खुलते ही अंदर जाने के लिए धक्का मुक्की हो गई। महिला भी लाइन में लगी हुई थी। इसी धक्का मुक्की में वे गिर गई व बेहोश हो गई व उसे अटैक आने से मौत हो गई।

एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी मनिंदर सिंह ने बताया कि महिला पीएनबी की समराला चौक शाखा में पिछले पांच दिन से अपनी बेटी की शादी के कारण कैश निकलवाने आ रही थी तथा बैंक खुलते ही  धक्का मुक्की में बेहोश हो गई तथा उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृतक करार दे दिया।

एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने आरोप लगाया कि महिला की मौत बैंक में लाइन में लगे हुए हुई तथा गेट के सामने धक्का मुक्की के कारण वह बेहोश हो गयी जिसके बाद उसकी मौत हो गई।

उधर, मौके पर पुलिस पहुंच गई तथा मामले की जांच शुरू कर दी है।

Leave a Reply